Author Archives: Nangli Tirth

Geeta Gyan

भगवद् गीता अध्याय: 5
श्लोक 5

श्लोक:
यत्साङ्‍ख्यैः प्राप्यते स्थानं तद्यौगैरपि गम्यते।
एकं साङ्‍ख्यं च योगं च यः पश्यति स पश्यति॥

भावार्थ:
ज्ञान योगियों द्वारा जो परमधाम प्राप्त किया जाता है, कर्मयोगियों द्वारा भी वही प्राप्त किया जाता है। इसलिए जो पुरुष ज्ञानयोग और कर्मयोग को फलरूप में एक देखता है, वही यथार्थ देखता है

ध्यान लगाना बहुत ही आसान है देखें इस विडियो को

Meditation

धयान लगाने की विज्ञानिक विधि है | आसानी से ध्यान लगाया जा सकता है | सबसे आसान काम है ये और आनंद संतुष्टी प्रदान करने वाला भी , आप धर्म के आधार पे तो जानते है| ध्यान क्या है | परन्तु ये सब विज्ञानिक रूप में कैसे होता है ये भी जानना चाहिए इस से ध्यान में स्थिरता होती है | यह को कठिन कार्य नहीं है | यदि से समझे की मन को नियंत्रण करना कठिन काम है ऐसा भी नहीं है | सही विधि पता हो तो बहुत ही आसान काम है | ध्यान क्यों लगाया जाये ? जब ध्यान की उत्तम अवस्था होती है तो कैसा अनुभव है ? उस अवस्था में पुहंचे व्यक्ति की क्या विशेता होती है ? भगवान की उर्जा का साक्षत्कार कैसे हो उसका विज्ञानक वर्णन प्रमाण के साथ ? ये सब जानने के लिए ये विडियो देखें |


हमारे साथ जुड़े फेसबुक के माध्यम से और पायें अपडेट्स

A view of Facebook's logo May 10, 2012 i

नंगली के साथ आप सोशल मीडिया के मधियम से भी जुड सकते हैं | इस तरह आप सभी अपडेट की जानकारी तुरंत पा सकते हैं | बहुत से लोग जुड़े हुए हैं हम आपका भी स्वागत करते हैं |

https://www.facebook.com/NangliSahib

NANGLI

जाने वेद का ज्ञान डाउनलोड करे वेद पुराण : वेदपुराण के सोजन्य से

vedpuran

यह सेवा vedpuran.net की और से  प्रदान की जा रही है | उसके सहयोग से सभी वेद पुराण की डिजिटल कापी आपके समकक्ष प्रस्तुत है |


Upapuranas

Vedas

New Arrivals

  • Shrimad Bhagvad Geeta Hindi-Sanskrit (Gorkhpur Press) (Download)
  • Shrimad Bhagvad Geeta (Punjabi-Sanskrit Meanings) (Download)
  • Shrimad Bhagvad Geeta (English-Exact Translation) (Download)
  • Shri Guru Granth Sahib – (Punjabi ) (Download)
  • Shri Guru Granth Sahib – (Hindi) (Download)
  • Mahabharat (Hindi ) 271mb  (Download)
  • Ramayan (Hindi-Sanskrit) 182mb (Download)
  • Ramayan (Tamil) (Download)
  • Ramcharitmanas (English) (Download)
  • Devi Bhagwat (Sanskrit Only) (Download)
  • Kalki Puran (Hindi and Sanskrit) (Download)
  • Manusmriti (English) (Download)
  • Vimanika Shaster (Hindi-Sanskrit) विमानिका शस्त्र (Download)

To Easy Download Use IDM or Right Click on “Download” and click save link as to Download

Important !

If you have copy of any lost Vedpuran or manuscript then you can also contribute by sending it to us. You can send it in any Digital format to us, we will process.

Just click here to upload and after review we will publish on site, maximum files will be published. You can upload upto 1 GB per file in size, allowed file are doc, docx, pdf, and rar. If you have in scan format just compress your folder to rar we will process to pdf for you. If you have any problem uploading just fill contact form and we will contact you.

Books Send By You to VedPuran

 By Eklavya Bansal

  • Aryabhatiya (English) (Download)
  • Bhrigu Samhita – फलित दर्पण  (Hindi PDF) 110mb (Download) – Compiled Version (Original Writer Maharishi Bhrigu-Translated by Rajesh Dixit)
  • Durga Saptashati (Hindi) (Download)
  • Durga Saptashati (Sanskrit) (Download)

By Ravi Gaurav Pandey

By Yogendra Mishra

By  Varun Modi and Sangeeta Modi

By Hardik Kothari

  • 108 Upanishads With Upanishad Brahmam Commentary (Download)
  • Arthved -Good Quality (Download)
  • Rigved – Good Quality (Download)
  • Yugrved – Good Quality (Download)
  • Mahabharat Gorkhpur Press (Vol-1 to 12) 709 mb and 7250 pages (Download) – To download use save link as option or download manager. Before Downloading large file you can download 4 pages sample file to check quality (Download Sample 4 Pages) your pc must have latest version of pdf is installed and have at least 2gb ram to open this file. This file is in high quality scan.

By Vishal Goswami

By Divy Sitlani

  • Chanakya Sutrani – Sanskrit text with Hindi Commentary (Download)

By John Carter

By Mukesh Dadhaniya

By Mukesh Dadhaniya

श्री श्री गुरु महाराज जी की स्तुति

Nangli Aarti

नमो सदगुरुं सचिदानन्द रूपम ।
नमो सदगुरुं ज्ञानदाता अनुपम ।।
नमो सदगुरुं सत स्वरूपं विकासम् ।
नमो सदगुरुं भानुवत् सुप्रकाशम् ।।
नमो सदगुरुं वृद्धि विद्या प्रदाता ।
नमो सदगुरुं सृष्टिकर्ता विधाता ।।
नमो सदगुरुं वेद ब्रम्ह स्वरूपम ।
नमो सदगुरुं भूपभूपानुभूपम ।।
नमो सदगुरुं काल कालं करालम ।
नमो सदगुरुं भक्त मानसमरालम ।।
नमो सदगुरुं दास पापंप्रहारी ।
नमो सदगुरुं निर्गुण निर्विकारी ।।

Nangli Will Hi-Tech Soon

नंगली तीर्थ
नंगली तीर्थ

नंगली होगा Hi-Tech

अगर आप इन बातों से सहमत हो तो शेयर करे। ये संदेश एक सूचना भी है और हाथ जोड़ कर सभी संत समाज, भक्त जन और नंगली गाँव के प्रधान और सभी निवासियो के लिए निवेदन भी है।सूचना यह है कि हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने हर एम.पी को अपने क्षेत्र के किसी एक गाँव को आदश॔ गाँव बनाने का आग्रह किया है।यह अच्छी योजना है कि गाँवों का विकास हो कयोकि शुरुआत अगर घर से होती है तो सारे देश तक असर करेगी।अब निवेदन यह है कि हमारा भी प्यारा सा एक गाँव है,”श्री गुरु मंदिर नंगली साहिब गाँव नंगली आजड़ सलेमपुर सकौती टाँडा जिला मेरठ मे है।”जो कि श्री नंगली तीथ॔ के नाम से प्रसिद्ध है।अब विचार धारा यह है कि सतगुरु की कृपा से, संत महा पुरुषो के आशीर्वाद से, नंगली गाँव के रहने वाले सभी लोगों के सहयोग से इसे आदश॔ गाँव बनाया जाए।ऐसा तभी हो सकता है जब सभी का सहयोग मिले यह किसी वयकति का काम नहीं अपितु प्रभु की सेवा है, जन-कलयाण का काम है। इस संदेश को इसी क्षेत्र के एम.पी जो कि श्री संजीव बलियान है–मुजफफरनगर उतर प्रदेश को भेज दे और उनहे निवेदन करे कि वो इस नंगली गाँव को एक आदश॔ गाँव बनाने का शुभ काय॔ करे और उनहे आश्वासन दे कि इस काम मे सब उनका साथ देंगे।एक आदश॔ गाँव बनने पर श्री नंगली गाँव का नाम सारे संसार मे छा जाएगा।” जिंदगी जीने का मकसद होना चाहिए और अपने आप पर विश्वास होना चाहिए”-
“रात ने चादर समेट ली है, सूरज ने किरणें बिखेर दी है, उठो! और शुक्रिया करो उस प्रभु का जो आपको अपनी सेवा करने का अवसर प्रदान कर रहें है।आइए हम सब मिलकर उनके निवास नंगली गाँव को अपने सुंदर विचारों से, प्रेम से और सेवा भावना मन मे रखकर और भी खूबसूरत बना दे कयोकि हम जो अपने लिए करते है वो हमारे साथ ही खत्म हो जाता है पर जो परमाथ॔और जन कलयाण के लिए सेवा करता है वह निश्चय ही प्रभु की सेवा का पात्र बनता है।अंत मे आप सभी संगत- अपने अपने आश्रम मे साधु संत बहनों को निवेदन करे कि प्रभु सेवा के लिए आगे आए।साधु संतों से फोन पर बात करे और उनहे विश्वास और होसला दे कि हम सब भक्त जन उनके साथ है।सभी संगत, दादा गुरु देव श्री परमहंस दयाल जी को हाथ जोड़ कर विनती करे कि श्री नंगली निवासी भगवान के नंगली गाँव की पावन भूमि को आदश॔ गाँव बनाने के लिए हम सभी साधु संतों, भक्त जनो और गाँव के निवासियो को आज्ञा आशीर्वाद और शक्ति प्रदान करे।निश्चय ही यह गाँव आदश॔ बनने पर सारे संसार मे(श्री नंगली गाँव) के नाम से जाना जाएगा।आइए हम सब मिलकर जन कलयाण की भलाई के लिए आगे आए और अपनी सेवाएँ देकर अपना और अपने परिवार का जीवन सफल करे।—“नंगली गाँव बनाने की तमन्ना अब हमारे दिल मे है -देखना है प्रेम कितना हम सब के दिल मे है।”

श्री नंगली दरबार से संपर्क करने हेतु
श्री स्वामी ब्रह्मानंद जी—09412665676
श्री ब्रह्म धम॔नंद जी –09536368070